DM Kya Hota Hai, DM Kaise Bane

DM कैसे बने, इनकी योग्यताये, इनके कार्य, इनकी चयन प्रक्रिया आदि इनकी पूरी जानकारी | –

हेलो दोस्तों आप का स्वागत है , आज हम बात करेंगे | DM Kya Hota Hai, DM Kaise Bane in hindi, DM (District Magistrate) कैसे बने, DM बनने के लिए क्या योग्यताये है, DM के क्या-क्या कार्य होते है, DM बनाने की चयन प्रक्रिया क्या है आदि इनकी पूरी जानकारी आज हम जानेंगे | DM जिनका पूरा नाम- District Magistrate (जिला मजिस्ट्रेट) कहते है | डीएम का पद बहुत ही बड़ा, अच्छा और सम्मानजनक पद है |

यह एक सरकारी पद है | और आप ये तो जानते ही है , कि एक सरकारी पद की गरिमा क्या होती है | और वैसे भी एक डीएम के पद को जिले का सबसे बड़ा पद मन जाता है | और कई बच्चो का सपना होता है, कि वो कोई सरकारी अधिकारी बने और अपने देश की इस पद पर रहकर सेवा करे | वो अपने इस सपने को डीएम के पद पर रहकर आसानी से पूरा कर सकते है | और एक डीएम पुरे जिले का बहुत बड़ा अधिकारी होता है | डीएम के पास बहुत सारे अधिकार होते है |

एक डीएम का कार्य जिले की रक्षा करना और सही रखना है | अगर आप का भी सपना है , कोई सरकारी अधिकारी बनने का या एक डीएम बनने का, तो आप हमारे संग इस Blog में जुड़े रहे | हम आपको अपने इस ब्लॉग में डीएम क्या होता है (DM Kya Hota Hai), डीएम कैसे बने, डीएम बनने के लिए क्या-क्या योग्यताये है, और डीएम को क्या-क्या कार्य करने पड़ते है, डीएम को कैसे चुनते है क्या चयन प्रक्रिया है, डीएम की सैलरी कितनी होती है | आदि जानकारी हम आपको अपने इस Blog के माध्यम से दे रहे है | 

डीएम कौन होता है, (DM Kya Hota Hai) | –

डीएम क्या होता है (DM Kya Hota Hai), डीएम एक सरकारी अधिकारी होता है, जिसका कार्य अपने जिले की सुरक्षा करना, अपने जिले की सेवा करना होता है | डीएम के पास पुरे जिले के अधिकार होते है | डीएम को जिला का मुखिया भी कहाँ जाता है | डीएम का पद जिले का सबसे बड़ा पद माना जाता है, यह एक अच्छा और सर्वोच्च सरकारी पद है | इस पद को पाना आसान नहीं है | कई बच्चो का सपना होता है, कि वो एक सरकारी अधिकारी बने | या डीएम बने |

जिन बच्चो का यह सपना है, में आज उन सभी बच्चो को उस पद के बारे में पूरी जानकारी दूंगा | जिससे वह अपना यह सपना साकार कर पाएं | DM का पूरा नाम जो होता है, वो है- District Magistrate (जिला मजिस्ट्रेट) होता है | डीएम के पास कई सारे अधिकार होते है | डीएम का कानून पर भी अधिकार होता है | डीएम अपने जिले के कानून को नियंत्रण कर सकता है | 

DM कैसे बने (DM Kaise Bane) | –

DM कैसे बने (DM Kaise Bane), अगर आप का भी सपना डीएम बनने का है, तो आज में आपको बताऊंगा, कि आप कैसे डीएम के पद पर बैठ सकते हो | आपको डीएम के पद पर बैठने के लिए यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा आयोजित की जाने वाली CSE परीक्षा को क्लियर करना है | और आपको कम से कम 100 वी रैंक में अपने आप को जोड़ना है | 

इस परीक्षा को देने के बाद आप एक IAS ऑफिसर बन जाते है, यह भी पड़े (IAS ऑफिसर कैसे बने) और IAS ऑफिसर के पद पर रहते हुए आपका प्रमोशन होता है, फिर आप डीएम बनते है | इसमें आपके अपने अंको के अनुसार आपकी रैंक बनती है, जितनी अच्छी आपकी रैंक होंगी | उतना अच्छा पद आपको प्राप्त होंगा | सबसे अधिक रैंक वाले स्टूडेंट को IAS ऑफिसर का पद मिलता है | और उसके बाद आपको IPS, IRS जैसे पदों पर भी भर्ती हो सकती है | 

Note :- अगर आप जाना चाहते है |

DM का क्या कार्य होता है | –

डीएम जिले का सर्वोच्च अधिकारी होता है, इसलिए इसके कार्य भी बहुत ही बड़े और जिम्मेदारी वाले होते है | आइये अब हम बात करते है | कि एक डीएम के क्या-क्या कार्य होते है | डीएम के पद पर बैठने के बाद आपको क्या-क्या कार्य करने पड़ते है | डीएम जिले की प्रशाशनिक सेवा और जिले की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होता है | डीएम का कार्य है कि सरकार द्वारा दी जाने वाली किसी भी सेवा में कोई बाधा न आने पाएं | जैसे सरकारी योजना, सरकारी स्कूल आदि | एक डीएम का कार्य है, कि वो अपने जिले के अंतर्गत आने वाले सभी शहर, कस्बे, गावों में जाए | और ये सुनिश्चित करे, कि वहां की जनता कोई परेशानी में तो नहीं है |

कोई पानी की समस्या, या बिजली की समस्या या अन्य कोई समस्या हो, तो वो डीएम के कार्य के अंतर्गत आती है | और डीएम का यह कार्य है, कि वह अपने जिले की जनता की सभी परेशानी का हल निकाले | डीएम का यह भी कार्य है, कि वो समय-समय पर पुलिस, जेल, और साथ में कार्य करने वाले मजिस्ट्रेट का निरिक्षण करे, साथ ही जिले में होने वाले पुरे वर्ष के सभी अपराधों की रिपोर्ट सरकार को देना, अपने सभी काम का ब्यौरा समय-समय पर मंडल आयुक्त को देना होता है | 

DM बनने के लिए क्या-क्या योग्यताएं है | –

अब हम बात करते है, कि हम डीएम कैसे बने | डीएम बनने के लिए क्या-क्या योग्यताएं है | आइये अब हम बात करते है | कि डीएम बनने की क्या-क्या योग्यताएं है | 

  • आपको डीएम बनने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन कम्पलीट करनी अनिवार्य है | 
  • अगर आप MBBS कोर्स कर रहे है, और अभी आप इंटर्नशिप पर नहीं गए | तब भी आप इस पद के लिए अप्लाई करने के पात्र है | 
  • आपको भारत का मूल निवासी होना आवश्यक है | 
  • और आपकी उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए | 
  • इसमें General, OBC, SC/ST के लिए आयु सीमा निर्धारित की गयी है, जो इस प्रकार है | 

   Category                                                                                     Age 


                General                                                 कम से कम 21 वर्ष और अधिक से अधिक 32 वर्ष 


                 OBC                                                     कम से कम 21 वर्ष और अधिक से अधिक 35 वर्ष 


                SC/ST                                                  कम से कम 21 वर्ष और अधिक से अधिक 37 वर्ष 


डीएम बनने के लिए यह उम्र सीमा निर्धारित की गयी है, और ये योग्यताएं निर्धारित की गयी है | अगर आप में ये सभी योग्यताये है | तो आप फॉर्म भरकर CSE एग्जाम दे सकते है 

DM बनने के लिए मुख्य बाते | –

आइये अब हम बात करते है, कि डीएम कैसे बने | हम आपको डीएम बनने के लिए कुछ मुख्य/महत्वूर्ण बाते बताएंगे | जिन्हे आप बिलकुल सही से और अच्छे से फॉलो करोंगे | तो आपको डीएम बनने में आसानी होंगी और आप आसानी से अपने CSE के एग्जाम को क्लियर कर पाएंगे | आइये अब हम बात करते है, उन मुख्य बातो की | 

  • आपको अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई के साथ-साथ ही UPSC के एंट्रेंस एग्जाम की पढ़ाई कर लेनी चाहिए यह भी पड़े (UPSC एग्जाम की पूरी जानकारी) | यानि कि एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करते रहना चाहिए | 
  • आपको UPSC एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी के लिए पहले से ही एक अच्छा सा टाइम टेबल बना लेना चाहिए | जिसे फॉलो करके आप अपनी पढ़ाई अच्छे से कर पाएं | और थोड़ा आराम भी कर पाएं | 
  • आपको टाइम-टेबल ऐसा बनाना चाहिए, जिसे फॉलो करके आप अपने अच्छे से अपने एंट्रेन्स एग्जाम की तैयारी कर पाएं | 
  • आपको अपना जनरल नॉलेज बढ़ाना होंगा, इसके लिए आप करंट अफेयर्स, और नई-नई बुक्स पढ़ सकते हो | इससे आपका दिमाग तेज होगा | 
  • आप सोशल मीडिया की सहायता से या अख़बार की सहायता से नए-नए करंट अफेयर्स जान सकते है | जिससे आपकी जनरल नॉलेज बढ़ सकती है | 
  • अगर आपका कोई दोस्त या रिस्तेदार ने UPSC का एग्जाम दिया है, तो आप उनसे उनका एग्जाम का अनुभव पूछ सकते है, कि कैसे पेपर आया था | कैसे तैयारी करे आदि जानकारी आप उनसे जान सकते है | 
  • आप कोशिश करें, कि आप कम से कम 4-5 वर्ष के पुराने क्वेश्चन पेपर को हल करें | इससे आपको अंदाज़ा हो जायेंगा | कि कौन-कौन से क्वेश्चन ज्यादा पूछे जाते है और आपको इसके एंट्रेंस एग्जाम का एग्जाम पैटर्न भी पता लग जायेंगा | 
  • भारत का इतिहास, सामायिक घटनाओ का अच्छा ज्ञान होना चाहिए | और साथ में आपको कानून का भी अच्छा-खासा ज्ञान होना चाहिए, जिसके लिए आप कानून, लॉ की किताब को पढ़ सकते है | 
  • आप UPSC परीक्षा की तैयारी खूब अच्छे से और खूब मन लगाकर पूरी मेहनत से करें |

Note- यह भी पड़े (UPSC एग्जाम की पूरी जानकारी)?

DM के पद की चयन प्रक्रिया | –

UPSC द्वारा डीएम के पद के लिए, IAS के पद के लिए, आईपीएस, आईएफएस आदि पद के लिए UPSC द्वारा एंट्रेंस एग्जाम आयोजित किया जाता है |

 UPSC द्वारा यह एग्जाम 3 चरणों में होता है | 

  1. Preliminary Exam (प्रारंभिक परीक्षा) |
  2. Mains Exam (मैन परीक्षा) |
  3. Interview (साक्षत्कार)आइये अब हम इन तीनो के बारे में जानते है |

1. PRELIMINARY EXAM ( प्रारम्भिक परीक्षा ) –

ये परीक्षा बहुत ही मुख्य परीक्षा होती है, क्युकी इस परीक्षा को क्लियर करके ही आप Mains Exam दे सकते है | इस परीक्षा में आपको 2 पेपर हल करने होते है | और ये पेपर 200 अंक के होते है | इसमें आपसे जनरल नॉलेज के  Question  पूछे जाते है, और कुछ आपकी रूचि के भी  Question  पूछे जाते है | इसलिए इस परीक्षा की तैयारी के लिए आपको कई सारे और नए-नए जनरल नॉलेज के  Question याद रखने होंगे | और साथ-साथ में आप गूगल की भी मदद ले सकते है |

इसमें आपसे Question ऑब्जेक्टिव टाइप पूछे जाते है | इस परीक्षा का समय 2 घंटे का होता है | पहले पेपर में आपसे 100 प्रश्न पूछे जाते है, और दूसरे पेपर में आपसे 80 प्रश्न पूछे जाते है | इस परीक्षा में प्रत्येक गलत उतर पर 0.33 अंक नेगटिव मार्किंग के कट जाते है | 

2. MAINS EXAM ( मुख्य परीक्षा ) –

इस परीक्षा में बैठने के लिए आपको सर्वप्रथम प्रारंभिक परीक्षा क्लियर करनी होगी, तभी आप इस परीक्षा में बैठने के पात्र हो पाते है | इस परीक्षा में आपके 9 पेपर होते है | पेपर A और B QUALIFYING पेपर होते है | इस परीक्षा को क्लियर करने के बाद आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है |

इसलिए इस पेपर को क्लियर करने के लिए आपको खूब और बहुत कड़ी मेहनत करनी होंगी | इस पेपर में Qualifying पेपर 300 अंक के होते है, और बाकि सब 250 अंक के होते है | पेपर करने की समय अवधि 3 घंटे होती है | 

  • पेपर A – इस पेपर में आपको आपके द्वारा चुनी एक भारतीय भाषा से सम्बंधित  Question पूछे जाते है | ये Qualifying पेपर होता है | 
  • पेपर B – इस पेपर में आपसे इंग्लिश विषय से जुड़े Question पूछे जाते है | ये भी Qualifying पेपर होता है | 
  • पेपर 1 – इस पेपर में आपसे निबंध से जुड़े Question पूछे जाते है | 
  • पेपर 2 – यह पेपर सामान्य अध्यन का होता है, भारत की विरासत और संस्कृति से सम्बंधित Question पूछे जाते है और भारत का इतिहास और भूगोल से जुड़े हुए Question भी पूछे जाते है | 
  • पेपर 3 – यह पेपर सामान्य अध्यन 2 का होता है | इसमें आपसे शासन, सविधान, राजनीति, अंतराष्टीय सम्बन्ध और सामाजिक न्याय से जुड़े Question पूछे जाते है | 
  • पेपर 4 – यह पेपर सामान्य अध्यन 3 का होता है | इसमें आपसे प्रोधोगिकी, जैव विविधता, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन, आर्थिक विकास, कृषि और पर्यावरड़ से सम्बंधित Question पूछे जाते है | 
  • पेपर 5 – यह पेपर सामान्य अध्यन 4 का होता है | इसमें आपसे नैतिकता, सत्यनिष्ठा, अखंडता और योग्यता के Question पूछे जाते है | 
  • पेपर 6 और पेपर 7 – ये दोनों पेपर वैकल्पिक Question के होते है | 

Interview ( इंटरव्यू ) – 

ये आपकी एक बहुत मुख्य और जरुरी और आखरी स्टेज होती है , जिसे क्लियर करके आप एक बड़े ऑफ़िसर बन सकते है | और अपना और अपने माता-पिता का नाम रोशन कर सकते है | इसमें आपसे कई प्रकार के कई सारे Question पूछे जाते है, जिसका आपको सही और अच्छे से आंसर देना होता है | इसमें ये आपकी बुद्धि का टेस्ट करते है, वो ये देखते है | कि आप कितने तेज है | और आप इस पद के काबिल है, या नहीं | और आपका ये इंटरव्यू 2-3 लोग लेते है |

आपके इंटरव्यू का समय लगभग 45 मिनट होता है | इसलिए आपको ये इंटरव्यू क्लियर करना बहुत जरुरी होता है | जब आप इंटरव्यू क्लियर कर लेते है | तो इसके बाद आपको ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है | और आप एक अच्छे ऑफ़िसर बन जाते है | ये इंटरव्यू आपका कठिन होता है | लेकिन आपको इंटरव्यू देते समय बिलकुल नहीं घबराना है, वो आपसे जो Question पूछे |

उसका सही-सही और स्पष्ट आंसर दे | बिलकुल निडर होकर आंसर दे | और इंटरव्यू के लिए खूब मेहनत  करे | क्युकी इसे पार करके आप एक IAS, IPS, IFS, IRS आदि बड़े पद पर बैठ सकते है | और इन पद पर प्रमोशन पाकर डीएम के पद पर बैठ सकते हो | 

Note :- अगर आप जाना चाहते है |

DM की सैलरी | –

DM (डीएम) के पद पर जब आप आते हो, तब आपकी शुरुवाती सैलरी कम से कम 56000 रुपए तक होती है, और जैसे-जैसे आप अनुभवी हो जाते हो और आपका प्रमोशन होता जाता है | यह सैलरी बढ़ते-बढ़ते 2,50,000 रुपए तक हो जाती है | और सरकार द्वारा डीएम को बॉडीगार्ड, सरकारी गाडी, बंगला, नौकर आदि कई सरकारी सुविधा प्रदान की जाती है | 

FAQ

डीएम कौन होता है, (DM Kya Hota Hai)?

डीएम एक सरकारी अधिकारी होता है, जिसका कार्य अपने जिले की सुरक्षा करना, अपने जिले की सेवा करना होता है | डीएम के पास पुरे जिले के अधिकार होते है | डीएम को जिला का मुखिया भी कहाँ जाता है | डीएम का पद जिले का सबसे बड़ा पद माना जाता है, यह एक अच्छा और सर्वोच्च सरकारी पद है | इस पद को पाना आसान नहीं है | कई बच्चो का सपना होता है, कि वो एक सरकारी अधिकारी बने |

DM कैसे बने (DM Kaise Bane)?

आपको डीएम के पद पर बैठने के लिए यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा आयोजित की जाने वाली CSE परीक्षा को क्लियर करना है | और आपको कम से कम 100 वी रैंक में अपने आप को जोड़ना है|

DM का क्या कार्य होता है?

डीएम का कार्य है कि सरकार द्वारा दी जाने वाली किसी भी सेवा में कोई बाधा न आने पाएं | जैसे सरकारी योजना, सरकारी स्कूल आदि | एक डीएम का कार्य है, कि वो अपने जिले के अंतर्गत आने वाले सभी शहर, कस्बे, गावों में जाए | और ये सुनिश्चित करे, कि वहां की जनता कोई परेशानी में तो नहीं है |

DM की पढ़ाई कितने साल की होती है?

General                                                 कम से कम 21 वर्ष और अधिक से अधिक 32 वर्ष |
OBC                                                     कम से कम 21 वर्ष और अधिक से अधिक 35 वर्ष |
SC/ST                                                  कम से कम 21 वर्ष और अधिक से अधिक 37 वर्ष |

DM की सैलरी?

DM (डीएम) के पद पर जब आप आते हो, तब आपकी शुरुवाती सैलरी कम से कम 56000 रुपए तक होती है, और जैसे-जैसे आप अनुभवी हो जाते हो और आपका प्रमोशन होता जाता है | यह सैलरी बढ़ते-बढ़ते 2,50,000 रुपए तक हो जाती है | और सरकार द्वारा डीएम को बॉडीगार्ड, सरकारी गाडी, बंगला, नौकर आदि कई सरकारी सुविधा प्रदान की जाती है | 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top